‘पहचान’

मैं स्वयं ही,
अपनी पहचान हूं।
पर ये भूल जाती हूं,
जब दुनिया के रंगमंच पर,
अपने अलग-अलग,
किरदार निभाती हूं,
कभी बेटी, कभी बहन,
कभी पत्नी,
और फिर मां बन जाती हूं,
लेकिन जब मेरे अपने,
मुझसे बेखबर,
स्वयं में ही व्यस्त हो जाते हैं,
आहत मन विचलित हो जाता है,
तब मुझे याद आता है,
मेरा भी एक अस्तित्व है,
मैं स्वयं ही,
अपनी पहचान हूं ।
तब मैं ढूंढ पाती हूं,
अपनी उपलब्धियां,
अपने वो गुण,
जो सबसे अलग हैं,
मेरा अंतर्मन,
जो मेरा,
मेरे स्वयं से पहचान कराता है।
मैं कोमल हृदय से,
अपना मर्म पहचानती हूं,
विस्मृत हो आते हैं,
मेरे खोए शौक,
कभी मैं भी पंछी बन,
उन्मुक्त आकाश में उड़ती थी,
ये याद कर फिर से,
उड़ान भरने को उत्सुक हो जाती हूं,
अपनी पहचान पाने को,
आतुर अधीर हो जाती हूं,
मन में लिए विश्वास,
मैं स्वयं ही अपनी पहचान हूं।।

2 विचार “‘पहचान’&rdquo पर;

  1. इस दुनिया में सबसे मुशकिल है खुद से खुद की पहचान करना , इस कविता के माध्यम से अपने हम सबकी पहचान करवा दी, इसके माध्यम से जो लोग खुद को भूल गए थे वे फिर से खुद को पा लेंगे ।

    पसंद करें

  2. इस दुनिया में सबसे मुश्किल है खुद से खुद की पहचान करना, इस कविता के माध्यम से आपने हम सबकी आंखे खोल खुद से खुद की पहचान करवा दी ।

    Liked by 1 व्यक्ति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
प्रारंभ करें
%d bloggers like this: